Home » Archives by category » विविध

या अल्लाह, इन्सानों को किसी मुफ़्लिस का जिगर दे

या अल्लाह, इन्सानों को किसी मुफ़्लिस का जिगर दे

JAGDISH BALI गुज़िश्ता चंद रोज किसी रिश्तेदार की शादी में शरीक होने जाना हुआ ! एक रात गुज़ारने के वास्ते किसी के घर जाना हुआ ! उस श्क्स का तारीक सा मकान था, परिवार खासा बडा है, बामुशिक्ल गुज़ारा होता होगा ! जब सवेरे चलने को हुए तो उस शक्स की बिवी ने मेरी बेगम […]

राष्ट्र्गान का सम्मान हमारा कर्तब्य

राष्ट्र्गान का सम्मान हमारा कर्तब्य

30 नवंबर को देश की सर्वोच्च अदादल्त की दो सदस्यों वाली न्यायपीठ ने आदेश दिया कि देश के सभी सिनेमा घरों में किसी भी फ़ीचर फ़िल्म दिखाए जाने से पहले राष्ट्र गान चलाना होगा और साथ ही पर्दे पर तिरंगे को फ़हराते हुए दिखाना होगा। हॉल में उपस्थित सभी लोगों को खड़े हो कर राष्ट्रगान […]

क्या सिर्फ़ अध्यापक ही दोषी?

क्या सिर्फ़ अध्यापक ही दोषी?

हाल ही में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला गागला में नवीं कक्षा में सभी छात्रों के फ़ेल होने की खबर को पढ़कर खेद तो जरूर हुआ पर बात हैरान कर देने वाली नहीं लगी। खेद इस लिए क्योंकि ऐसा परिणाम अभिभावकों, छात्रों व अध्यापकों के लिए दुखदायी व चंताजनक है। हैरानी इस लिए नहीं हुई क्योंकि […]

Greed

‘ Greed has no end . Once the students demanded some solid proof from their teacher , on this asumption. The teacher sent , one of the students , to the nearby ‘ Chocolate Factory ‘ , to buy one of the best chocolate from it and gave him money , for the purpose. The […]