Home » Posts tagged with » मोहन साहिल

ननु ताकती है दरवाज़ा

ननु ताकती है दरवाज़ा

सीधे सादे शब्दों में मासूम चेहरों की चिंता करती कविताएं                        कविता की रचना के लिए कवि का अपने आसपास के समाज से जुड़ाव जरूरी है। इतना ही नहीं समाज में मनुष्यों से इतर जीवों यहां तक की निर्जीव वस्तुओं के प्रति भी कवि सोचता है और उनसे हो रहे अन्याय उपेक्षा को अपनी रचनाओं […]