Home » Entries posted by रौशन जसवाल

सोलन जिला से चार अध्यापक  शिक्षा में शून्य निवेश नवाचार में सराहनीय योगदान के लिए सम्मानित

सोलन जिला से चार अध्यापक शिक्षा में शून्य निवेश नवाचार में सराहनीय योगदान के लिए सम्मानित

 सोलन जिला से चार अध्यापकों को अरविन्दों सोसायटी द्वारा संचालित शिक्षा में शून्य निवेश नवाचार में सराहनीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया है. इनमे राजकीय प्राथमिक विद्यालय कवारग कंडाघाट, शेली  धुधंन और खनोल अर्की से   जे बी टी अध्यापक पूनम कश्यप , दलीप शर्मा और कपिल राघव तथा  डाइट सोलन से  प्राचार्य चन्दर मोहन शर्मा […]

राजकीय प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय ग्याणा अंखड शिक्षा ज्योति कार्यक्रम

राजकीय प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय ग्याणा अंखड शिक्षा ज्योति कार्यक्रम

 राजकीय प्राथमिक व माध्यमिक विद्यालय ग्याणा में सयुंक्त रूप से अंखड शिक्षा ज्योति मेरे स्कूल से निकले मोती के अंतर्गत एक दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में विद्यालय के पूर्व छात्र रहे परस राम,परमानंद तथा धनीराम को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।इस कार्यक्रम में विद्यालय के प्रभारी विजय तथा ज्योति […]

विद्यालय उत्सव रा॰ प्रा॰ पा॰ बथालंग खण्ड अर्को जिला सोलन ।

  दिनाँक 06-03-2021 को केंद्र प्राथमिक पाठशाला बथालंग में विद्यालय उत्सव( अखंड शिक्षा ज्योति,  मेरे स्कूल से निकले मोती) आयोजित किया गया जिसके अन्तर्गत इस पाठशाला से निकले पूर्व छात्रों ( जिन्होंने इस क्षेत्र को अपना बहुमूल्य योगदान दिया है) को सम्मानित किया गया। सभी सम्मानित” मोतियों” ने अपने जीवन के अनुभव तथा संघर्ष को […]

गयाना विद्यालय में जल दिवस

गयाना विद्यालय में जल दिवस

राजकीय केंद्र विद्यालय रबोन में पूर्व विद्यार्थी समानित

राजकीय केंद्र विद्यालय रबोन में पूर्व विद्यार्थी समानित

डाइट सोलन में एक दिवसीय दिव्यांगजन अधिनियम जागरूकता शिविर

डाइट सोलन में एक दिवसीय दिव्यांगजन अधिनियम जागरूकता शिविर

विद्यालय उत्सव रा॰ प्रा॰ पा॰ बथालंग खण्ड अर्को जिला सोलन ।

विद्यालय उत्सव रा॰ प्रा॰ पा॰ बथालंग खण्ड अर्को जिला सोलन ।

सोलन शहर का जतोली मंदिर, एशिया का सबसे ऊंचा और कला का बेजोड़ नमूना

सोलन शहर का जतोली मंदिर, एशिया का सबसे ऊंचा और कला का बेजोड़ नमूना

पौराणिक मान्यता है कि भगवान शिव कुछ समय के लिए यहां पर रुके थे । बाद में एक सिद्ध बाबा स्वामी कृष्णानंद परमहंस ने 1950 में यहां आकर तपस्या की। जिनके मार्गदर्शन और दिशा-निर्देश पर ही यहां मंदिर का निर्माण शुरू हुआ।  ऐसा माना जाता है कि यहां के लोगों को पानी की समस्या से […]

गांधी और शास्त्री जयंती

गांधी और शास्त्री जयंती

DOWNLOADS

 RECOGNITION PVT. SCHOOLS